उत्तर प्रदेश

बड़ी खबर(देहरादून) चार धाम यात्रियों के लिए “ई-स्वास्थ्य धाम ऐप हुआ लाइव. मुख्य सचिव ने की शुरुआत।।

उत्तराखंड सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने WISH (वाधवानी इनिशिएटिव फॉर सस्टेनेबल हेल्थकेयर) के सहयोग से पवित्र चार धाम यात्रा पर जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए स्वास्थ्य सेवा और निगरानी प्रणाली को बेहतर बनाने के उद्देश्य से एक अग्रणी पहल “ई-स्वास्थ्य धाम” की शुरुआत की है। यह वेब ऐप अब लाइव हो गया है

“ई-स्वास्थ्य धाम” एक समर्पित वेब ऐप है जिसे तीर्थयात्रियों की यात्रा के दौरान उनके स्वास्थ्य की स्थिति की निगरानी के लिए सावधानीपूर्वक डिज़ाइन किया गया है। पर्यटन साइट पर मौजूदा चार धाम पंजीकरण पोर्टल के साथ सहज रूप से एकीकृत, यह प्लेटफ़ॉर्म तीर्थयात्रियों को उनके ABHA ID के माध्यम से आसानी से अपने मेडिकल रिकॉर्ड तक पहुँचने में सक्षम बनाता है, जिससे आवश्यक स्वास्थ्य जानकारी की आसान पुनर्प्राप्ति सुनिश्चित होती है।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड)चलती कार बन गई आग का गोला. कार सबार बाल बाल बचे।।

यात्रा के दौरान तीर्थयात्रियों को WISH और HANS Foundation द्वारा रणनीतिक रूप से प्रबंधित स्क्रीनिंग पॉइंट मिलेंगे। यहाँ, वे स्वास्थ्य स्क्रीनिंग से गुज़र सकते हैं, जिसके परिणाम वेब ऐप पर तुरंत अपडेट किए जाएँगे। तीर्थयात्री स्वयं इस महत्वपूर्ण जानकारी तक पहुँच सकते हैं, जिससे पारदर्शिता सुनिश्चित होती है और उन्हें अपने स्वास्थ्य के बारे में सूचित निर्णय लेने का अधिकार मिलता है। यह अभिनव स्वास्थ्य वेब ऐप तीर्थयात्रियों के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए सरकार की अटूट प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है। यह स्वास्थ्य जोखिमों को कम करने के लिए सतर्क निगरानी और हस्तक्षेप रणनीतियों को लागू करके तीर्थयात्रियों की भलाई की रक्षा करने के लिए हमारे समर्पण का उदाहरण है, जिससे यात्रा पर जाने वाले सभी तीर्थयात्रियों के लिए एक सहज यात्रा सुनिश्चित होती है।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर (उत्तराखंड) नागर निकाय चुनाव. इस माह होगा मतदाता सूची का अंतिम प्रकाशन. देखेंआदेश।।

महत्वपूर्ण स्वास्थ्य जानकारी तक निर्बाध पहुँच के लिए, वेब ऐप को लगातार अपडेट किया जाएगा, जिससे तकनीकी गड़बड़ियों का जोखिम कम से कम होगा। तीर्थयात्रियों को “https://eswasthyadham.uk.gov.in” पर जाकर नामांकन करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

वेब ऐप के अलावा, हमारी पहल में सूचना, शिक्षा और संचार (आईईसी) एडवाइजरी का निर्माण शामिल है। इन एडवाइजरी का उद्देश्य तीर्थयात्रियों को संभावित स्वास्थ्य जोखिमों, निवारक उपायों और आवश्यक होने पर समय पर चिकित्सा सहायता लेने के महत्व के बारे में शिक्षित करना है। आईईसी एडवाइजरी के माध्यम से महत्वपूर्ण जानकारी का प्रसार करके, हम तीर्थयात्रियों को यात्रा के दौरान अपने स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए आवश्यक ज्ञान से सशक्त बनाना चाहते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(Uttrakhand) यहां कार चलना सीखा तो देना होगा 12 सौ का जुर्माना. स्कूल बसों के लिए भी राशि फिक्स।।

इसके अलावा, उत्तराखंड स्वास्थ्य विभाग और WISH (वाधवानी इनिशिएटिव फॉर सस्टेनेबल हेल्थकेयर) के बीच एक सहयोगी प्रयास में, चार धाम मार्ग पर तैनात सभी स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं को व्यापक प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। यह प्रशिक्षण आपातकालीन देखभाल में उनके कौशल को बढ़ाने के लिए तैयार किया गया है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे चार धाम यात्रा के दौरान उत्पन्न होने वाली किसी भी चिकित्सा स्थिति का प्रभावी ढंग से सामना करने के लिए तैयार रहें।

To Top