अल्मोड़ा

बिग ब्रेकिंग(उत्तराखंड) बदरीनाथ धाम के भी खुले कपाट. बर्फबारी के बीच बाबा के जयकारों के साथ श्रद्धालुओं का दर्शन करने का सिलसिला हुआ प्रारंभ ।।

आखिर बड़े ही धूमधाम और श्रद्धा के साथ भगवान बदरीनाथ धाम के कपाट भी श्रद्धालुओं के लिए खुल गए हैं। कपाट खुलने से पहले ही बदरीनाथ में भारी बर्फबारी हो रही है, लेकिन इसके बावजूद भी श्रद्धालु वहां जयकारे लगाने के साथ झूमते हुए नजर आए। हर साल की तरह इस साल भी पहली पूजा और आरती देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से हुई। आईटीबीपी के बैंड के अलावा गढ़वाल स्काउट्स भी इस मौके पर प्रस्तुति दी। मंदिर को 15 टन से अधिक फूलों से सजाया गया है।

यह भी पढ़ें 👉  (दीजिए बधाई) पूर्वोत्तर रेलवे इज्जत नगर मंडल के रोशन कुमार ने सीबीएसई बोर्ड दसवीं क्लास में 95.2 अंक हासिल कर किया मंडल का नाम रोशन।।

मंदिर के पट खुलने से पहले की तस्वीर। श्रद्धालु मंदिर के बाहर इंतजार में बैठे हुए।

सेना के बैंड ने इस मौके पर धार्मिक गीतों की धुनें बजाईं।

बदरीनाथ के पट खुलने से पहले आदिगुरु शंकराचार्य की गद्दी नृसिंह मंदिर से पांडुकेश्वर को रवाना हुई।
बर्फबारी और कड़ाके की ठंड के बीच भू-बैकुंठ बदरीनाथ धाम के कपाट श्रद्धालुओं के लिए खुले। वैदिक मंत्रोचारण के साथ आज गुरुवार सुबह 7 बजकर 10 मिनट पर बदरीनाथ धाम के कपाट खोल दिए गए हैं। कपाट खुलने के इस पावन मौके पर अखंड ज्योति के दर्शन करने के लिए सैकड़ों श्रद्धालु धाम पहुंचे तो यात्रा पड़ावों पर चहल-पहल भी शुरू हो गई है।
मान्यता यह है कि साल के 6 महीने मनुष्य भगवान विष्णु की पूजा करते हैं तो बाकी के 6 महीने यहां देवता भगवान विष्णु की पूजा करते हैं जिसमें मुख्य पुजारी खुद देवर्षि नारद होते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड) अब शिक्षकों के इस प्रक्रिया के तहत होंगे स्थानांतरण, आदेश जारी।।

बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने के साथ ही उत्तराखंड में चार धाम की यात्रा शुरू हो गई है। इस दिन का चयन टिहरी नरेश करते हैं जो कि एक पुरानी परंपरा रही है।

To Top