उत्तरकाशी

बड़ी खबर(अभी-अभी) प्रधानमंत्री मोदी ने किया मुख्यमंत्री धामी को फोन, सिल्कयारा टनल में फंसे श्रमिक के बारे में ली जानकारी ।।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी को पुनः फोन कर सिलक्यारा, उत्तरकाशी में सुरंग में फँसे श्रमिकों के राहत एवं बचाव कार्य के संबंध में जानकारी ली।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी से सुरंग में फंसे श्रमिकों का कुशल क्षेम जाना। प्रधानमंत्री ने ड्रिलिंग के संबंध में संपूर्ण जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा अंदर फंसे श्रमिकों के साथ ही बाहर राहत बचाव कार्य में जुटे लोगों की सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखा जाए। उन्होंने कहा अंदर फंसे श्रमिकों के परिजनों को किसी भी तरह की परेशानी ना हो। साथ ही प्रधानमंत्री ने आगामी रणनीति पर भी चर्चा की।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(देहरादून) राज्य को मिली अहम विद्युत परियोजनाएं, CM धामी के साथ उच्चस्तरीय बैठक में केंद्रीय ऊर्जा मंत्री मनोहर लाल खट्टर ने दी सहमति।।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को मुख्यमंत्री ने बताया कि मैन्युअली डिगिंग कार्य शुरु कर दिया गया है। अब तक कुल 52 मीटर पाइप को पुश कर लिया गया है। यदि कोई बड़ी अड़चन नहीं आई तो शीघ्र ही सभी श्रमिकों को बहार निकाल लिया जाएगा। उन्होंने बताया अंदर फंसे सभी श्रमिकों का स्वास्थ्य सकुशल है। राहत एवं बचाव कार्य में जुटे श्रमिक इंजीनियर विशेषज्ञ अधिकारी हर संभव प्रयास कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(Uttrakhand) सास से पीड़ित बहू ने गंगा में कूद कर दी जान. महिला आयोग ने लिया संज्ञान ।।

मुख्यमंत्री ने बताया कि अंदर फंसे से सभी श्रमिकों को नियमित रूप से गुणवत्ता पूर्ण भोजन भेजा जा रहा है। सभी श्रमिकों से निरंतर डॉक्टर एवं मनोचिकित्सको से भी संवाद करवाया जा रहा है। अंदर फंसे श्रमिकों के परिजनों से भी निरंतर बात करवाई जा रही है। उन्होंने बताया कि एसडीआरफ द्वारा स्थापित कम्युनिकेशन सेटअप के अतिरिक्त बीएसएनएल द्वारा टेलिफोनिक कम्युनिकेशन सेटअप को भी स्थापित किया है।

यह भी पढ़ें 👉  (रोजगार समाचार) डाक विभाग में निकली बंपर वैकेंसी. ऐसे करें आवेदन।।

मुख्यमंत्री ने बताया कि फंसे श्रमिकों को निकल जाने के उपरांत सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। उन्होंने बताया एसडीआरएफ, एनडीआरएफ मौके पर तैनात की गई है। डॉक्टर की टीम भी मौके पर मौजूद है। सभी अधिकारियों को 24 घंटे अलर्ट पर रखा गया है।

To Top