उत्तर प्रदेश

(बड़ी खबर)पंडित गोविंद बल्लभ पंत की दृढ़ इच्छा शक्ति ही राम मंदिर निर्माण का प्रमुख कारण बनी।

महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी पं.गोविंद बल्लभ पंत की प्रशासकीय, कार्यशैली के लोग आज भी घायल हैं राम जन्मभूमि को लेकर उनका अडिग फैसला ही आज मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर गया है अयोध्या में श्री राम मंदिर तैयार हो चुका है मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हो चुकी है हजारों की संख्या में रोजाना मंदिर में लोग दर्शन के लिए आ रहे हैं. अयोध्या में जिस जगह पर श्रीराम का भव्य मंदिर बन कर तैयार हुआ है. इतिहास और जानकारों की की माने तो

जिस जगह पर भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बनकर तैयार है वहां पर वर्ष 22 जनवरी 194 9 में भगवान राम लला की मूर्ति स्थापित हुई थी और कुछ लोगों ने उसको मस्जिद का नाम दिया था लेकिन तत्कालीन उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पंडित गोविंद बल्लभ पंत के दृढ़ संकल्प ने विवादित जगह से मूर्ति को नहीं हटने दिया और आज भव्य मंदिर बनकर तैयार हो चुका है. जानकारों की माने तो पंडित गोविंद बल्लभ की दृढ़ इच्छा शक्ति और प्रधानमंत्री का संकल्प का नतीजा है कि आज अयोध्या में भगवान श्री राम का भव्य मंदिर बनाकर तैयार है.।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड) वाहन काली नदी में समाया.एक महिला की मौत.सहायक खाद्य निरीक्षक सहित दो लापता ।।


गौर हैं कि पंडित गोविंद बल्लभ पंत, संयुक्त प्रांत के प्रधान मंत्री 1937-1939, यूपी के पहले मुख्यमंत्री 1947-1954 को तात्कालिक प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने गोविंद बल्लभ पंत को विवादित जगह से मूर्ति हटाने के टेलीग्राफिक संदेश और निर्देश के बाद भी उन्होंने अपना दृढ़ संकल्प को नहीं बदला और उस स्थान से रामलला की मूर्ति को नहीं हटाया .पंडित गोविंद बल्लभ पंत को बेहतर कार्य शैली और बेहतर प्रशासक के रूप में जाने जाते थे जिसके चलते उनको भारत रत्न की उपाधि दी गई.

यह भी पढ़ें 👉  (बड़ी खबर)वायु सेना में भर्ती का सुनहरा मौका. इस दिन से होगा रैली के लिए पंजीकरण प्रारंभ।।

वर्ष 2021 में उसी स्थान पर अयोध्या में रामलला का आशीर्वाद लेने के लिए पंडित पंत की पुत्रवधू नैनीताल लोकसभा के पूर्व सांसद सुश्री इला पंत, और उनके पोते सुनील मंदिर जाकर रामलला की दर्शन भी कर चुके हैं.।

यह भी पढ़ें 👉  (बड़ी खबर) उत्तराखंड लोक सेवा आयोग ने इस परीक्षा की नई अपडेट की जारी।।


भारत रत्न पंडित गोविंद बल्लभ की विकास कार्यों और बेहतर प्रशासन के तौर पर जाने जाते था जिसका नतीजा है कि आज करोड़ देशवासियों गोविंद बल्लभ पंत को याद करते हैं.
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोविंद बल्लभ पंत की बहू पूर्व नैनीताल सांसद सुश्री इला पंत जी को भगवान श्री राम की प्रतिमा देखकर सम्मानित भी कर चुके हैं.

To Top