उत्तर प्रदेश

बड़ी खबर(उत्तराखंड)हिम तेंदुआ देखना है तो खुल गया पार्क !!

गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान चार महीने के शीतकालीन अवकाश के बाद सोमवार को आगंतुकों के लिए फिर से खोल दिया गया। उसी दिन उत्तरकाशी में ऐतिहासिक गर्तांगली ट्रेक भी आगंतुकों के लिए फिर से खोल दिया गया। राष्ट्रीय उद्यान के द्वार फिर से खुलने से, पर्यटक अब गौमुख, तपोवन, नेलांग और गर्तांगली की यात्रा कर सकेंगे। हालांकि, सर्दियों और पिछले दिनों हुई बर्फबारी के कारण पर्यटकों को गौमुख और तपोवन जाने के लिए दो से तीन हफ्ते तक इंतजार करना पड़ेगा.
वन विभाग कर्मियों ने कनखू बैरियर पर पूजा-अर्चना के बाद गंगोत्री नेशनल पार्क के गेट दोबारा खोल दिए
इसके साथ ही गर्तांगली, केदार ताल, भैरव घाटी नेलांग चेक पोस्ट पर भी पूजा-अर्चना की गई। अब पर्यटक गर्तांगली, नेलांग, केदार ताल के साथ ही गोमुख और तपोवन पार्क देखने जा सकते हैं। गंगोत्री नेशनल पार्क क्षेत्र के रेंजर प्रदीप बिष्ट ने बताया कि सोमवार को गंगोत्री नेशनल पार्क के चारों गेट पर्यटकों की आवाजाही के लिए खोल दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि मौसम अनुकूल होने पर गौमुख क्षेत्र के रास्ते में आने वाले ग्लेशियरों को हटा दिया जाएगा। दो-तीन सप्ताह में गोमुख से तपोवन के बीच रास्ता साफ हो जाएगा। बिष्ट ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस साल नेशनल पार्क में हजारों पर्यटक आएंगे.

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(नैनीताल) जिलाधिकारी ने इस दिन एक दिनी सार्वजनिक अवकाश के दिए निर्देश।।

गंगोत्री राष्ट्रीय उद्यान 1989 में स्थापित किया गया था और यह 1,553 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है और 7,073 मीटर की ऊंचाई तक फैला हुआ है। राष्ट्रीय उद्यान हरे-भरे शंकुधारी जंगलों, घास के मैदानों और ग्लेशियरों से घिरा हुआ है। इस क्षेत्र में रहने वाले कुछ वन्यजीवों में भरल या नीली भेड़, काला भालू, भूरा भालू, हिमालयी मोनाल, हिमालयी स्नोकॉक, हिमालयी तहर, कस्तूरी मृग और हिम तेंदुआ शामिल हैं। नई टिहरी

To Top