उत्तर प्रदेश

बड़ी खबर(उत्तराखंड) भूकंप से फिर हिली धरती. लोग घरों से बाहर निकले।।

कुछ दिन पूर्व आये भूकम्प की एक बार पूर्णावर्ती हुई। एक बार फिर 11.30 बजे भूकम्प के झटके महसूस हुए। इस बार पिछली बार से तेजी काम होने से कम लोगो ने इसे महसूस किए।

कई दिनों से लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं एक बार फिर से उत्तराखंड सहित कई क्षेत्र में मामूली भूकंप दर्ज किया गया है उत्तराखंड में शनिवार को एक बार फिर भूकंप के झटके से डोली धरती । उत्तराखंड में आज सुबह 11:32 बजे राज्य के पिथौरागढ़ जनपद के हल्द्वानी सहित विभिन्न क्षेत्रों में भुकंप के झटके महसूस किए गए। भूकंप का झटका महसूस होते ही लोग घरों से बाहर निकल

यह भी पढ़ें 👉  (रोजगार समाचार) यदि आप जूनियर इंजीनियर है तो तुरंत करें आवेदन.RRB ने निकली 7951 पदों पर भर्ती।।

इसके अलावा नैनीताल जनपद अंतर्गत हल्द्वानी लाल कुआं में आज भूकंप के झटके महसूस किए गए, दिन में करीब 11. 30 मिनट में भूकंप के हल्के झटके महसूस किए गए, तीव्रता कम होने की वजह से कुछ ही लोगों ने महसूस किए भूकंप के झटके। भूकंप का केंद्र नेपाल बताया जा रहा है विक्टर पैमाने पर भूकंप की क्षमता 5.0दर्ज की गई है।

यह भी पढ़ें 👉  (बड़ी खबर)जब चलती ट्रेन के एसी कोच में बच्चे की गूंजी किलकारी. जच्चा बच्चा स्वस्थ ।।

उत्तराखंड में पिछले कुछ समय से लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं। हल्के झटकों से प्रदेश में कोई नुकसान तो नहीं हुआ, लेकिन वैज्ञानिक इसे बड़े भूकंप के आने की चेतावनी बता रहे हैं। वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान के वरिष्ठ विज्ञानी डॉ. आरजे पेरुमल ने भी यही कहा है। उन्होंने कहा नेपाल में विगत मंगलवार को आए भूकंप के झटके कांगड़ा (हिमाचल) और बिहार-नेपाल के सिस्मिक गैप में आए हैं।

यह भी पढ़ें 👉  (Big breaking) भारी बरसात इस जनपद में कल स्कूलों में छुट्टी घोषित.डीएम के आदेश. अधिकारियों को यह निर्देश जारी ।।

इस संपूर्ण क्षेत्र में भूगर्भ में तनाव की स्थिति निरंतर बनी हुई है। ऐसे में इस सिस्मिक गैप में कभी भी बड़ा भूकंप आ सकता है। कांगड़ा (हिमाचल) और बिहार नेपाल के – सिस्मिक गैप में वर्ष 1905 में कांगड़ा में 7.8 मैग्नीट्यूट और बिहार -नेपाल सीमा पर वर्ष 1934 में आठ ट्यूट के विनाशकारी भूकंप आ चुके हैं।

To Top