उत्तर प्रदेश

बड़ी खबर(उत्तराखंड) पर्यटन बाहुल्य राज्य में कैसे चलेगी लंबी दूरी की ट्रेनें. अब रेलवे कर रहा है अतिक्रमण हटाने की तैयारी।।

पर्यटन बाहुल्य राज्य में अवैध अतिक्रमण विकास के लिए अवरोध का बड़ा कारण बनता जा रहा है इज्जतनगर मंडल के टनकपुर स्टेशन यार्ड में शहर साइड लाईन संख्या चार पर बने फौजी ढ़ाबा के कारण रेल संचालन में होने वाली परेशानी से निजात दिलाने के लिए रेलवे प्रशासन में तैयारियां प्रारंभ कर दी है।
पूर्वोत्तर रेलवे इज्जत नगर मंडल के जनसंपर्क अधिकारी

राजेंद्र सिंह ने बताया कि फौजी ढ़ाबा द्वारा रेलवे भूमि पर मीटर गेज के समय से अतिक्रमण किया गया है.आमान परिवर्तन के समय गाड़ी सचालन हेतु यार्ड की लम्बाई बढ़ाने की नितांत आवश्यकता हुई, लाईन बढ़ाने में उपरोक्त

यह भी पढ़ें 👉  (बड़ी खबर)उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग.यह अभ्यर्थी देंगे साक्षात्कार. आयोग ने जारी की सूची।।

अतिक्रमण बाधक होने के कारण ट्रेनों के संचालन में रेल प्रशासन को अनेक कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है।
तथा लाइन संख्या चार का उपयोग रनिंग लाईन के रूप में नहीं किया जा पा रहा है जिसके चलते लाईन संख्या चार का उपयोग गाड़ियों के संचालन में करने पर गाड़ियां विलम्बित हो रही हैं।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड) अब शिक्षकों के इस प्रक्रिया के तहत होंगे स्थानांतरण, आदेश जारी।।


श्री सिंह ने बताया कि यदि किसी गाड़ी को लाईन संख्या चार में रिसीव कर लिया जाए तो गाड़ी की इंजन को रिवर्स नहीं किया जा सकता है और इंजन अंदर फस जाता है जिसके कारण दूसरे इंजन से रैक को किसी अन्य लाईन में प्लेस करने पर ही इंजन निकल पाता है। इससे अनावश्यक शटिंग कार्य बढ़ता है। जब-जब रेलवे प्रशासन द्वारा अतिक्रमण को हटाने के लिए प्रयास किया गया तो ढ़ाबा स्वामी कोर्ट की शरण लेकर रेल प्रशासन के साथ असहयोग किया। फलस्वरूप अतिक्रमण की यथा स्थिति वर्तमान में भी बनी हुई है। टनकपुर रेलवे स्टेशन से और ट्रेन के संचालन की मांग को पूरा नहीं किया जा सका है। अतिक्रमण हटने पर ही टनकपुर स्टेशन यार्ड में और विकास कार्य किए जा सकेंगे। जिससे लम्बी दूरी की गाड़ियों के संचालन हो सकेगा और स्थानीय जनता की बहुप्रतिक्षित मांग की पूर्ति संभव हो सकेगी।

To Top