उत्तर प्रदेश

बिग ब्रेकिंग (उत्तराखंड)जी 20 सम्मिट में आए विदेशी डेलिगेट्स ने CTR में बाघ और हाथी के किए दीदार. हुए रोमांचित. देखी लघु फिल्म भी ।।

रामनगर-: जी 20 सम्मिट सीएसआर कार्यक्रम के बाद आज विदेशों से आए अतिथियों ने जिम कार्बेट नेशनल पार्क में बाघ और हाथी के दीदार किए अपने आसपास हाथी और बाघ को देखकर विदेशी मेहमान रोमांचित होकर प्रदेश के प्रदेश मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी तथा जिम कॉर्बेट प्रशासन का आभार जताया ।


आज जिम कार्बेट नेशनल पार्क के अलग-अलग स्थानों से जी 20 सीएसआर सेमिनार में आए विदेशी अतिथियों ने भ्रमण के दौरान मचान चौड़ में बाघ एवं चीतल रोड पर हाथी के दीदार किए .रामनगर में सीआरएस g20 समिट के दौरान विदेशों से पहुंचे 34 डेलिगेट्स तथा 23 स्वदेशी डेलिगेट्स ने जिम कार्बेट भ्रमण के दौरान जैव विविधता से भरे इस पार्क का अवलोकन किया इस दौरान विदेशी अतिथियों को कार्बेट टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर डॉ धीरज पांडे ने बताया कि कार्बेट टाइगर रिजर्व का उद्देश्य एशिया महाद्वीप की दो महत्वपूर्ण लुप्तप्राय ध्वज प्रजातियां बाध व हाथी का संरक्षण कर उसके माध्यम से समस्त

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(उत्तराखंड)भारी बरसात के चलते कल इस जनपद में एक से 12 तक स्कूल आंगनबाड़ी केंद्र रहेंगे बंद. डीएम ने दिए आदेश ।

इकोसिस्टम का संरक्षण पर कार्य करना है. उनका उद्देश्य बन जीव पर्यटन के माध्यम से जन सामान्य जीवों के प्रति जागरूकता जागृत कर उनका संरक्षण में सहयोग करना है. उन्होंने कहा की पार्क प्रशासन इस बात को लेकर पूरी तरह से संवेदनशील है की स्थानीय लोगों को पार्क में रोजगार उपलब्ध कराया जाए उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक वाहन पार्क के अंदर सैलानियों को घुमाने हेतु पार्क प्रबंधन के दिशा निर्देशन पर ही कार्य करता है।


इस दौरान विदेशियों को घुमा रहे नेचर गाइडों ने बताया कि कार्बेट टाइगर रिजर्व में वर्तमान समय में स्तनपाई की 55 प्रजातियां. पक्षी की 580 प्रजातियां. सरीसृप एवं जलीय प्राणियों में मगर .घड़ियाल किंग कोबरा पाइथन आदि की 33 प्रजातियां पाई जाती है वही स्तनपाई वर्ग में बाघ. बंदर .हाथी .सांभर. चीतल. काकड़ .पाडा. जंगली सूअर. नीलगाय. भालू प्रमुख है मत्स्य की बात की जाए तो यहां बह रही नदियों में 7 प्रजातियां पाई जाती हैं जिसमें महाशीर मछली का पाया जाना कार्बेट की विशेषता को दर्शाता है. पक्षियों में प्रवासी एवं प्रवासी पक्षी आकर्षण बढ़ाते हैं जिनकी कुल संख्या 685 अब तक रिकॉर्ड की गई है .कार्बेट टाइगर रिजर्व की प्रमुख विशेषता रामगंगा नदी व उसकी सहायक नदियों के किनारे पाए जाने वाले घास के मैदान है जो आकर्षण का केंद्र बिंदु रहते हैं .इस दौरान विदेशी बिजरानी गेट पर कार्बेट टाइगर रिजर्व तथा विभाग द्वारा शुरू की गई संरक्षण गतिविधियों पर चार लघु फिल्म भी दिखाई गई तथा बिजरानी वन परिसर में एक निर्भीक बाघ नामक एक प्रदर्शनी वह देखा जहां विदेशी डेलीगेट ने इसकी सराहना की इसके बाद बिजरानी गेट पर कार्बेट टाइगर रिजर्व के विभागीय पालतू हाथियों से उन्हें रूबरू कराया गया इस दौरान विदेशी डेलिगेट्स काफी प्रसन्न एवं प्रफुल्लित दिखाई दिए।
कार्बेट टाइगर भ्रमण के दौरान आयुक्त दीपक रावत. प्रमुख वन संरक्षक होफ उत्तराखंड विनोद कुमार सिंघल. प्रमुख वन संरक्षक वन जीव मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक समीर सिन्हा .प्रमुख वन संरक्षक वन्यजीव मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक डॉ धीरज पांडे. आईजी कुमाऊं नीलेश आनंद भरणे. उपनिदेशक टाइगर रिजर्व दिगंथ नायक. पार्क वार्डन अमित कुमार ग्वासीकोटी .उप प्रभागीय वन अधिकारी बिजरानी शालिनी जोशी आदि थे।।

To Top