Connect with us

उत्तराखण्ड

(छठ पर्व विशेष) सूर्य की उपासना में जल (अर्घ्य) क्यों दिया जाता है, बता रहे हैं,ज्योतिर्विद पं० शशिकान्त पाण्डेय {दैवज्ञ ।।

ज्योतिर्विद पं० शशिकान्त पाण्डेय {दैवज्ञ}
9930421132

🚩🙏 सूर्य की उपासना में जल (अर्घ्य) क्यों दिया जाता है?

( छठ पर्व विशेष ) सत्य सनातन धर्म की जय

सूर्योपनिषद् के अनुसार समस्त देव, गंधर्व, ऋषि भी सूर्य रश्मियों में निवास करते हैं। सूर्य की उपासना के बिना किसी का कल्याण संभव नहीं है, भले ही अमरत्व प्राप्त करने वाले देव ही क्यों न हों। स्कंदपुराण में कहा गया है कि सूर्य को अर्घ्य दिए बिना भोजन करना, पाप खाने के समान है। भारतीय चिंतक पद्धति के अनुसार सूर्योपासना किए बिना कोई भी मानव किसी भी शुभ कर्म का अधिकारी नहीं बन सकता।

संक्रांतियों तथा सूर्य षष्ठी के अवसर पर सूर्य की उपासना का विशेष विधान बनाया गया है। सामान्य विधि के अनुसार प्रत्येक रविवार को सूर्य की उपासना की जाती है। वैसे प्रतिदिन प्रातःकाल रक्तचंदन से मंडल बनाकर तांबे के लोटे (कलश) में जल, लाल चंदन, चावल, लाल फूल और कुश आदि रखकर घुटने टेककर प्रसन्न मन से सूर्य की ओर मुख करके कलश को छाती के समक्ष बीचों-बीच लाकर सूर्य मंत्र, गायत्री मंत्र का जप करते हुए अथवा निम्नलिखित श्लोक का पाठ करते हुए जल की धारा धीरे-धीरे प्रवाहित कर भगवान् सूर्य को अर्घ्य देकर पुष्पांजलि अर्पित करना चाहिए। इस समय दृष्टि को कलश के धारा वाले किनारे पर रखेंगे, तो सूर्य का प्रतिबिंब एक छोटे बिंदु के रूप में दिखाई देगा। एकाग्र मन से देखने पर सप्तरंगों का वलय भी नज़र आएगा।
फिर परिक्रमा एवं नमस्कार करें।

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग-: (उत्तराखंड)कोरोना को लेकर नहीं SOP हुई जारी. 31 जनवरी तक जारी रहेंगे यह दिशा निर्देश.पढ़ें विस्तार से.....

सिन्दूरवर्णाय सुमण्डलाय नमोऽस्तु वजाभरणाय तुभ्यम् । पद्माभनेत्राय सुपंकजाय ब्रह्मेन्द्रनारायणकारणाय ॥ सरक्तचूर्ण ससुबर्णतोयंस्त्रकूकुंकुमाट्यं सकुशं सपुष्पम् । प्रदत्तमादायसहेमपात्रं प्रशस्तमर्घ्य भगवन् प्रसीद ॥

शिवपुराण कैलास संहिता 6/39-40

अर्थात् सिंदूर वर्ण के से सुंदर मंडल वाले, हीरक रत्नादि आभरणों से अलंकृत, कमलनेत्र, हाथ में कमल लिए, ब्रह्मा, विष्णु और इंद्रादि (संपूर्ण सृष्टि) के मूल कारण हे प्रभो! हे आदित्य! आपको नमस्कार है। भगवन! आप सुवर्ण पात्र में रक्तवर्ण चूर्ण कुंकुम, कुश, पुष्पमालादि से युक्त, रक्तवर्णिम जल द्वारा दिए गए श्रेष्ठ अर्घ्य को ग्रहण कर प्रसन्न हों। उल्लेखनीय है कि इससे भगवान् सूर्य प्रसन्न होकर आयु, आरोग्य, धन-धान्य, क्षेत्र, पुत्र, मित्र, तेज, वीर्य, यश, कांति, विद्या, वैभव और सौभाग्य आदि प्रदान करते हैं । और सूर्यलोक की प्राप्ति होती है। ब्रह्मपुराण में कहा गया है।

मानसं वाचिकं वापि कायजं यच्च दुष्कृतम् ।
सर्वसूर्यप्रसादेन तदशेषं व्यपोहति ॥

अर्थात् जो उपासक भगवान् सूर्य की उपासना करते हैं, उन्हें मनोवांछित फल प्राप्त होता है। उपासक के सम्मुख प्रकट होकर वे उसकी इच्छापूर्ति करते हैं और उनकी कृपा से मनुष्य के मानसिक, वाचिक तथा शारीरिक सभी पाप नष्ट हो जाते हैं।

ऋग्वेद में सूर्य से पाप मुक्ति, रोगनाश, दीर्घायु, सुख प्राप्ति, दरिद्रता निवारण आदि के लिए प्रार्थना की गई है। वेदों में ओजस्, तेजस् एवं ब्रह्मवर्चस्व की प्राप्ति के लिए सूर्य की उपासना करने का विधान है। ब्रह्मपुराण के अध्याय 29-30 में सूर्य को सर्वश्रेष्ठ देवता मानते हुए सभी देवों को इन्हीं का प्रकाश स्वरूप बताया गया है और कहा गया है कि सूर्य की उपासना करने वाले मनुष्य जो कुछ सामग्री सूर्य के लिए अर्पित करते हैं, भगवान् भास्कर उन्हें लाख गुना करके वापस लौटा देते हैं। स्कंद पुराण काशी खंड 9/45-48 में सविता सूर्य आराधना द्वारा धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष अथात् चतुर्वर्ग की फल प्राप्ति का वर्णन है। धन, धान्य, आयु, आरोग्य, पुत्र, पशुधन, विविध भोग एवं स्वर्ग आदि सूर्य की उपासना करने से प्राप्त होते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग-: कांग्रेस की आज जारी हो सकती है लिस्ट. 60 नाम हो सकते हैं जारी. सूत्रों के हवाले से खबर.....

यजुर्वेद अध्याय 13 मंत्र 43 में कहा गया है कि सूर्य की सविता की आराधना इसलिए भी की जानी चाहिए कि वह मानव मात्र के समस्त शुभ और अशुभ कमों के साक्षी हैं। उनसे हमारा कोई भी कार्य या व्यवहार छिपा नहीं रह सकता।

अग्निपुराण में कहा गया है कि गायत्री मंत्र द्वारा सूर्य की उपासना-आराधना करने से वह प्रसन्न होते हैं और साधक का मनोरथ पूर्ण करते हैं।

यह भी पढ़ें 👉  दु:खद (उत्तराखंड) बारात की बस खाई में गिरी तीन की मौत. घायल हायर सेंटर भेजें।

( मेरे प्रिय वैष्णव जनों आपको यह मेसीज इस छोटे से दास के द्वारा भेजे गऐ कैसे लगते है, क्या कमियाँ दिखती हैं, इन विषयों पर अपनी शिकायत और सुझाव भेजते रहें ताकि हमें इस पेज को और बेहतर बनाने की प्रेरणा मिलती रहे🙏🏻🙏🏻*
आप सभी मित्रों से निवेदन है कि यदि आपको हमारे लेख और पोस्ट ज्ञानवर्धक, शिक्षाप्रद, एवं आध्यात्मिक ज्ञान बढ़ानेवाले लगते हैं तो कृपया अपने उन सभी मित्रों को भी पेज पर आमंत्रित करें, जिनके लिये आप चाहते हैं कि वे भी इनको पढ़ने के लिये उत्तम पात्र बने।🙏🏻🙏🏻
इस महासंकट काल में श्रीसीताराम जी की कृपादृष्टि आप सभी पर, आपके मित्रों, परिजनों एवं आपके समस्त जानकारों पर बनी रहे यहीं श्रीसीताराम जी से करबद्ध प्रार्थना है जी! 🙏🏻🙏🏻

बोलो श्री बाँके बिहारी लाल की जय👏

ज्योतिर्विद पं० शशिकान्त पाण्डेय {दैवज्ञ}
9930421132

श्री हरी आपका दिन मंगलमय् करें – 🌅👏

Ad
Continue Reading

पोर्टल का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड तथा देश-विदेश की ताज़ा ख़बरों व महत्वपूर्ण समाचारों से आमजन को रूबरू कराना है। अपने विचार या ख़बरों को प्रसारित करने हेतु हमसे संपर्क करें। Email: [email protected] | Phone: +91 94120 37391

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखण्ड

Uttarakhand News

Uttarakhand News

Trending News

Like Our Facebook Page