उत्तर प्रदेश

ब्रेकिंग-:अवैध रूप से रह रहे नाइजीरियन ने उत्तराखंड के NGO संचालक से 27 लाख की करी ठगी, नागालैंड की महिला रह रही थी नाइजीरियन के लव इन रिलेशन के साथ, दोनो गिरफ्तार ।।

27 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने के आरोपी नाइजीरिया नागरिक एवं नागालैंड निवासी महिला पुलिस की गिरफ्त में

टिहरी। 
टूरिस्ट वीजा में भारत आकर घूमते घूमते नाइजीरिया का युवक नागालैंड की युवती के साथ लिव इन रिलेशन में रहने लगा जहां सबसे एक बच्चे को जन्म हुआ भारत में रहकर उक्त युवक और युवती ने ठगी का धंधा प्रारंभ कर दिया बीते रोज पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है।

एसएसपी टिहरी नवनीत सिंह भुल्लर से प्राप्त जानकारी के अनुसार लक्ष्मी प्रसाद सेमवाल निवासी घनसाली टिहरी एनजीओ संचालित करते हैं। पिछले साल इन्हें बैंक अधिकारी बनकर नाइजीरिया का नागरिक इरीभोग जेरोम विक्टर ने फोन किया और ग्रामीण क्षेत्र में विकास के लिए 11 करोड़ रुपये देने का प्रलोभन दिया। उनकी बातों सुनकर लक्ष्मी प्रसाद सेमवाल झांसे में आ गये। उन्होंने अलग-अलग खातों में 27 लाख 28 हजार 500 रुपये जमा कराए। लेकिन सेमवाल के खातों में कोई रुपये नहीं आया। इसके बाद उन्होंनें घनसाली थाना में अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया। मुकदमा दर्ज होने के बाद पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई। सीसीटीवी फुटेज और काल डिटेल के आधार पर नोएडा से नाइजिरिया के नागरिक इरीभोग जेरोम विक्टर और नागालैंड निवासी महिला ल्यांग पिखुम्ला चांग को गिरफ्तार किया है। दोनों ने अलग-अलग एटीएम कार्ड से उक्त धनराशि निकाली थी। पूछताछ में उन्होंने बताया कि दोनों चार साल से दिल्ली में लिव इन रिलेशन में रहते हैं। इनका दो साल का बेटा भी है। महिला अभी गर्भ से है। नाइजिरिया निवासी ठग दिल्ली में टूरिस्ट वीजा पर आया था। उसका वीजा खत्म हो गया है। वह दिल्ली में फर्जी तरीके से रह रहा था। दोनों को कोर्ट में पेश किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग-; जी 20 देशों की होगी उत्तराखंड में बैठक.तैयारियां हुई प्रारंभ. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने तैयारियों का लिया जायजा.इस बैठक से उत्तराखंड को मिलेगी वैश्विक पटल पर नई पहचान ।।

गौरतलब है कि आरोपियों ने लक्ष्मी प्रसाद सेमवाल की युनाईटेड नेशन ऑफ डेवलेपमेन्ट नामक संस्था को ग्रामीण क्षेत्र में डेवलपमेन्ट करने हेतु आर्थिक सहायता 150000 डॉलर की सहायता उपलब्ध कराने के झांसे में लेकर उक्त डॉलर को भारतीय मुद्रा में परिवर्तित करने तथा आपके खाते को इनकम टैक्स से छूट दिलाने के नाम पर अलग-अलग खातों में दिनांक 26.10.2021 से 30.10.2021 तक कुल 27,28500/- रुपये धोखाधड़ी से स्थानान्तरित करा लिये थे ।

Ad Ad Ad Ad
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top