Connect with us

नैनीताल

(हाॅर्टी टूरिज्म)बंजर भूमि अब किसानों की आय का बनेगी साधन, 8 एकड़ बंजर भूमि में हुई सेब क्रांति,DM धीरज सिंह गर्ब्याल का अभिनव प्रयास।।

नैनीताल,
  साकार होता हॉर्टी-टूरिज्म का सपना जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल के अभिनव प्रयासों से रामगढ़ हॉर्टी-टूरिज्म का सपना साकार कर रहा है। जिला योजना से हॉर्टी टूरिज्म को प्रोमोट करने के लिए राज्य का यह पहला प्रोजेक्ट है। इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत जिला योजना से प्रथम चरण में राजकीय उद्यान रामगढ की 08 एकड़ बंजर भूमि को उपजाऊ कर मदर ऐपल ऑर्चर्ड व क्लोनल रूट स्टॉक नर्सरी का विकास किया गया। इसके अंतर्गत 2100 उच्च घनत्व सेब के मातृ वृक्ष लगाए गए है जिनसे उत्पादन भी होने लग गया है तथा रोपित की गई क्लोनल रुट स्टॉक नर्सरी के 6240 सेब के पौधों से कृषकों हेतु उच्च घनत्व के सेब के पौधे बनाए गए है। उद्यान में रोप गए मातृ वृक्ष में उच्च कोटि की प्रजातियां है जिसमें रेड़ डिलिशियज़, ग्रैनी स्मिथ एवं गाला शिंजिको रेड प्रजातियों पर फोकस किया गया है। इसी प्रोजेक्ट के द्वितीय चरण में कॉटेज, कैफे व काश्तकारों के लिए प्रशिक्षण केंद्र बनाए जा रहा है।

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग-: मध्य रात्रि में खैर की लकड़ी की कर रहा था तस्करी, वन विभाग ने अवैध खैर की लकड़ी के साथ वाहन को किया सीज ।।


 • जिलाधिकारी ने बताया कि जिला योजना से रामगढ़ में हॉर्टी टूरिज्म को प्रोमोट करने के लिए कार्य किया जा रहा है। रामगढ़ का सरकारी ऑर्चर्ड पूरे राज्य में ही नहीं अपितु अन्य राज्यों के लिए भी विकास का मॉडल बनेगा। रामगढ़ की रूट स्टॉक नर्सरी से काश्तकारों को कम लागत में उच्च घनत्व के पौध भी उपलब्ध कराए जाएंगे। जनपद के अन्य राजकीय उद्यान में भी यह मॉडल लागू किया जाएगा। जिलाधिकारी ने कहा कि हॉर्टी टूरिज्म प्रोजेक्ट में उद्यान विभाग द्वारा पूरी तन्मयता से कार्य किया गया जिसका परिणाम है कि आज रामगढ़ राज्य का पहला हॉर्टी टूरिज्म का केंद्र है।
  इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य।
नवीनतम प्रजातियों के समवेश, क्लोनल रूट स्टॉक आधारित ऐपल फार्मिंग को बढ़ावा देना, हॉर्टी टूरिज्म को बढ़ावा देना, दूसरे ही वर्ष से प्रति पेड़ से 03 से 05 किलो उत्पादन प्राप्त होता है। इसके साथ ही उत्पादन व उत्पादकता को बढ़ाना है।
उच्च घनत्व पौधों का आकार छोटा होने के कारण पौधों की कटाई, छंटाई, तुड़ाई के साथ साथ-साथ स्प्रे आदि करना भी आसान हो जाता है जिससे कि फल उत्पादन का खर्चा घट जाता हैं। पौधों का आकार छोटे होने के कारण सूर्य की किरणें पौधें की गहराई तक जाती हैं जिससे की अधिकतम प्रकाश संश्लेषण होता है जोकि फलों की गुणवता को बढ़ाता हैं।
 

Continue Reading
Advertisement

पोर्टल का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड तथा देश-विदेश की ताज़ा ख़बरों व महत्वपूर्ण समाचारों से आमजन को रूबरू कराना है। अपने विचार या ख़बरों को प्रसारित करने हेतु हमसे संपर्क करें। Email: [email protected] | Phone: +91 94120 37391

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in नैनीताल

Uttarakhand News

Uttarakhand News
Ad

Trending News

Like Our Facebook Page

Author

Founder – Om Prakash Agnihotri
Website – www.uttarakhandcitynews.com
Email – [email protected]