उत्तर प्रदेश

बिग ब्रेकिंग (उत्तराखंड) लो जी फिर 10 हजार के रंग में रंग गई पटवारी जी.रंगे हाथ हुई गिरफ्तारी. नहीं कर रहा था वारिसान दर्ज ।।

लगता है तहसील में काम करने वाले कर्मचारी पिछली बार पकड़े गए पटवारी के प्रकरण से सबक लेने को तैयार नहीं है इसी का नतीजा रहा कि आज एक और पटवारी घूस लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार हुआ शिकायतकर्ता द्वारा भ्रष्टाचार की रोकथाम हेतु हैल्प लाईन नं0 1064 के माध्यम से शिकायत दर्ज की उसके पिता द्वारा वर्ष 1991 में बंशीपुर हरबर्टपुर मे दो जमीने खरीदी थी जो उनके नाम दर्ज थी, जिनकी मृत्यु दिनांक 14.08.1996 को हो गयी थी, परन्तु दोनो जमीनों में अभी तक शिकायतकर्ता के परिवार के सदस्यों के नाम वारिसान के रूप में दर्ज नहीं हुआ है।
वारिसान में नाम दर्ज कराने के लिये करीब एक महीने पहले अपने क्षेत्र के पटवारी श्री ओमप्रकाश ऐटनबाग क्षेत्र को दि0 12.04.2023 को शिकायतकर्ता ने अपने बडे भाई कमल नेगी के नाम से एक प्रार्थना पत्र और बताये गये कागजात पटवारी श्री ओमप्रकाश को दिये और जमीनों में वारिसान मे नाम चढाने को कहा तो श्री ओमप्रकाश ने उससे 10 हजार रूपये रिश्वत की मांग की जा रही थी । पुलिस अधीक्षक, सतर्कता सैक्टर देहरादून श्रीमती रेनू लोहनी द्वारा शिकायती प्रार्थना पत्र में अंकित आरोपों का संज्ञान लेते हुए गोपनीय रूप से जांच करायी गयी । जांचोपरान्त लगाये गये आरोग प्रथम दृष्टया सही पाये गये । जिस पर एक त्वरित ट्रैप टीम का गठन किया गया

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(देहरादून) उत्तराखंड में रेल परियोजनाओं को लगेंगे पंख. इस बजट से होंगे यह काम रेलमंत्री ने गिनाई प्राथमिकताएं।।


शिकायतकर्ता द्वारा भ्रष्टाचार की रोकथाम हेतु हैल्प लाईन नं0 1064 के माध्यम से शिकायत दर्ज की उसके पिता द्वारा वर्ष 1991 में बंशीपुर हरबर्टपुर मे दो जमीने खरीदी थी जो उनके नाम दर्ज थी, जिनकी मृत्यु दिनांक 14.08.1996 को हो गयी थी, परन्तु दोनो जमीनों में अभी तक शिकायतकर्ता के परिवार के सदस्यों के नाम वारिसान के रूप में दर्ज नहीं हुआ है।

यह भी पढ़ें 👉  बड़ी खबर(देहरादून) 442 स्मार्ट क्लास रूम का मुख्यमंत्री ने किया शुभारंभ. इन विद्यार्थियों को किया सम्मानित।।

वारिसान में नाम दर्ज कराने के लिये करीब एक महीने पहले अपने क्षेत्र के पटवारी श्री ओमप्रकाश ऐटनबाग क्षेत्र को दि0 12.04.2023 को शिकायतकर्ता ने अपने बडे भाई कमल नेगी के नाम से एक प्रार्थना पत्र दिया और बताये गये कागजात पटवारी श्री ओमप्रकाश को दिये और जमीनों में वारिसान मे नाम चढाने को कहा तो श्री ओमप्रकाश ने उससे 10 हजार रूपये रिश्वत की मांग की जा रही थी । पुलिस अधीक्षक, सतर्कता सैक्टर देहरादून श्रीमती रेनू लोहनी द्वारा शिकायती प्रार्थना पत्र में अंकित आरोपों का संज्ञान लेते हुए गोपनीय रूप से जांच करायी गयी । जांचोपरान्त लगाये गये आरोग प्रथम दृष्टया सही पाये गये । जिस पर एक त्वरित ट्रैप टीम का गठन किया गया ।

यह भी पढ़ें 👉  (रेलवे ब्रेकिंग)बरसात ने लगाया इस ट्रेन पर ब्रेक. लालकुआं से नहीं चलेगी लंबी दूरी की यह ट्रेन।।


दिनांक 24-04-2023 को ट्रैप टीम द्वारा अभियुक्त ओमप्रकाश पुत्र स्व0 वृज लाल निवासी केदारपुरम देहरादून हाल तैनाती सर्वे लेखपाल ऐटनबाग क्षेत्र तहसील विकास नगर को ट्रैप टीम द्वारा अपराहन लगभग 13:30 बजे शिकायतकर्ता से 10,000/रू0-( दस हजार रूपये) की रिश्वत ग्रहण करते हुए स्वतंत्र गवाहो के समक्ष रंगे हाथों गिरफ्तार किया गया।

उक्त सम्बन्ध में थाना सतर्कता सैक्टर देहरादून में आरोपी के विरूद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 (संशो0 अधि0 2018) पंजीकृत किया जा रहा है । उक्त सम्बन्ध में थाना सर्तकता अधिष्ठान, सैक्टर देहरादून में आरोपी के विरूद्व भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम (संशोधित 2018) का अभियोग पंजीकृत किया जा रहा है । ट्रैप टीम के उत्साह वर्धन हेतु निदेशक सतर्कता महोदय द्वारा नगद पारितोषिक से पुरस्कृत किये जाने की घोषणा की गयी है।

To Top