Connect with us
Advertisement

उत्तराखण्ड

बिग ब्रेकिंग-:केंद्र सरकार ने तीनों कृषि कानून लिए वापस, टिकैत बोले संसद सत्र तक करेंगे इंतजार ।

Ad

नई दिल्ली। पिछले एक वर्ष से कृषि कानूनों की वापसी को लेकर देशभर के विभिन्न क्षेत्रों में आंदोलन कर रहे किसानों को शुक्रवार की सुबह बड़ी खुशखबरी मिली है। राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि आज मैं आपको, पूरे देश को, ये बताने आया हूं कि हमने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने का निर्णय लिया है। इसी महीने के अंत में शुरू हो रहे संसद सत्र में, तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा कर देंगे।
पीएम मोदी ने कहा हमारी सरकार, किसानों के कल्याण के लिए खासकर छोटे किसानों के कल्याण के लिए देश के कृषि जगत और देश के हित में, गांव गरीब के उज्जवल भविष्य के लिए, पूरी सत्यनिष्ठा से, किसानों के प्रति समर्पण भाव से, नेक नीयत से ये कानून लेकर आई थी। लेकिन इतनी पवित्र बात, पूर्ण रूप से शुद्ध, किसानों के हित की बात, हम अपने प्रयासों के बावजूद कुछ किसानों को समझा नहीं पाए। कृषि अर्थशास्त्रियों ने, वैज्ञानिकों ने, प्रगतिशील किसानों ने भी उन्हें कृषि कानूनों के महत्व को समझाने का भरपूर प्रयास किया।
पीएम ने कहा आज ही सरकार ने कृषि क्षेत्र से जुड़ा एक और जीरो बजट खेती यानि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए अहम फैसला लिया है। देश की बदलती आवश्यकताओं के मद्देनजर क्रॉप पैटर्न वैज्ञानिक तरीके से बदलने के लिए एमएसपी को और अधिक प्रभावी और पारदर्शी बनाने के लिए। ऐसे सभी विषयों पर निर्णय लेने के लिए एक कमेटी का गठन किया जाएगा। जिसमें केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के प्रतिनिधि, किसान, कृषि वैज्ञानिक, कृषि अर्थशास्त्री शामिल होंगे।
बता दें कि तीनों कृषि कानूनों को लेकर देशभर के किसान साल भर से दिल्ली की सीमाओं पर डटे थे। इसके अलावा किसानों ने देश के अलग-अलग हिस्सों में भी आंदोलन शुरू कर दिया था। इसबीच दिल्ली में आठ सौ से अधिक किसानों की मौत भी हुई। यहां तक कि किसानों के आंदोलन को खत्म करने के लिए हर संभव प्रयास भी केंद्र सरकार और भाजपा ने किए।
भले आज प्रधानमंत्री मोदी ने तीनो कृषि कानूनों कों वापस लेने की घोषणा कर दी हो लेकिन राकेश टिकेत इस पर अपना बड़ा बयान दिया है उन्होंने कहा कि आंदोलन तत्काल खत्म नही होगा. राकेश टिकेत ने आगे कहा कि हम उस दिन का इंतज़ार करेंगे जब इन तीनो कृषि कानूनों कों संसद में रद्द किया जायेगा

यह भी पढ़ें 👉  बिग ब्रेकिंग-:कोरोना के नए वेरिएंट को लेकर सरकार हुई गंभीर, मुख्यमंत्री ने प्रदेश की जनता से की यह अपील, अधिकारियों को दिए यह दिशा निर्देश ।।

राकेश टिकैत ने कहा है कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा. उन्होंने कहा है कि हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा.

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग-:यहां सिंचाई गूल में शव मिलने से सनसनी, पुलिस ने शव भेजा शव विच्छेदन गृह ।।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किसानों की मांग मान ली है. पीएम मोदी ने कृषि कानून वापस लेने का ऐलान करते हुए किसानों से घर लौटने की अपील की है. इन सबके बीच किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे किसान नेता राकेश टिकैत ने संकेत दिए हैं कि वे किसान आंदोलन तत्काल वापस लेने के मूड में नहीं

यह भी पढ़ें 👉  ब्रेकिंग न्यूज़-:आज से खनखनाने लगे हैं गौला नदी में बेलचे और फावड़े, RO गौला आर पी जोशी ने किया रिबन काटकर इस गेट का शुभारंभ ।।

राकेश टिकैत ने कहा है कि आंदोलन तत्काल वापस नहीं होगा. उन्होंने कहा है कि हम उस दिन का इंतजार करेंगे जब कृषि कानूनों को संसद में रद्द किया जाएगा. राकेश टिकैत ने साथ ही ये भी साफ किया है कि सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) के साथ-साथ किसानों से संबंधित दूसरे मुद्दों पर भी बातचीत करे.

राकेश टिकैत ने एक मीडिया चैनल से बात करते हुए पीएम मोदी के ऐलान पर अविश्वास जताया. उन्होंने साफ कहा कि अभी तो बस ऐलान हुआ है. हम संसद से कानूनों की वापसी होने तक इंतजार करेंगे. राकेश टिकैत ने साथ ही ये भी कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य समेत किसानों से जुड़े अन्य मसलों पर भी बातचीत का रास्ता खुलना चाहिए.

Ad
Continue Reading

पोर्टल का मुख्य उद्देश्य उत्तराखंड तथा देश-विदेश की ताज़ा ख़बरों व महत्वपूर्ण समाचारों से आमजन को रूबरू कराना है। अपने विचार या ख़बरों को प्रसारित करने हेतु हमसे संपर्क करें। Email: [email protected] | Phone: +91 94120 37391

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in उत्तराखण्ड

Trending News

Like Our Facebook Page

Advertisement

Ad